Call Us: 9956983333, Whatsapp: 9956983333
Shadow

हमारे ग्रह

साढ़े साती शनि- कब और कहाँ रहता है(Saadhe saati shani – kab aur kahan rahta hai)

साढ़े साती शनि- कब और कहाँ रहता है(Saadhe saati shani – kab aur kahan rahta hai)

शनि ग्रह
साढ़े साती शनि- कब और कहाँ रहता है(Saadhe saati shani - kab aur kahan rahta hai) Saadhe saati shani kab aur kahan rahta hai साढ़े साती कुल 2700 दिन की होती है | दिनों के हिसाब से साढ़े सात वर्ष की अवधि में सामान्तया शनि के शुभ और अशुभ प्रभाव इस प्रकार हैं |  100 दिन : शनि मुख पर रहता है | यह समय जातक के लिए हानिकारक रहता है | 101 से 500 : अर्थात 400 दिन | इस अवधि में शनि दायीं भुजा पर रहता है | यह समय विजयप्रदायक , लाभदायक एवं सफ़लता दिलाने वाला होता है | 501 से 1100 दिन : मतलब 600 दिन | यह समय यात्राकारक रहता है , क्योंकि शनि पैरों पर रहता है | यात्रायें लाभदायक या हानिकारक हो सकती हैं | इसका निर्णय जन्मकुंडली में स्थित शनि कि शुभ -अशुभ स्थिति पर निर्भर करता है | 1100 से 1600 दिन : यानी 500 दिन | इस अवधि में शनि पेट पर रहता है | यह समय भी लाभदायक ,सफलता दिलाने वाला
हमारे ग्रह

हमारे ग्रह

महत्वपूर्ण, हमारे ग्रह
वैसे तो बहुत सारे ग्रह हमारे सौर मंडल में हैं ,परन्तु नौ ग्रह ऐसे हैं जिनका प्रभाव हमारे ऊपर सबसे ज्यादा पड़ता है | वो ग्रह हैं -- सूर्य , चन्द्र , शनि , शुक्र , मंगल , गुरु , बुध , राहु , केतु | हमारा जीवन इन्ही नौ ग्रहों से संचालित होता है | हर ग्रह से जीवन के अलग-अलग पहलुओं का विचार किया जाता है | हर ग्रह हमारे जीवन के अलग-अलग कर्मों को संचालित करता है | आईये जाने किस ग्रह से क्या विचार किया जाता है | सूर्य :- सूर्य से पिता सुख विचार किया जाता है | चन्द्र :- चन्द्र से माता सुख विचार किया जाता है | मंगल :- मंगल से भाई का विचार किया जाता है | बुध :- बुध से मामा का विचार किया जाता है | गुरु :- गुरु से पुत्र का विचार किया जाता है | शुक्र :- शुक्र से स्त्री का विचार किया जाता है | शनि :- शनि से मृत्यु का विचार किया जाता है | राहु और केतु :- ये दोनों छाया ग्रह हैं और अ