Call Us: 9956983333, Whatsapp: 9956983333
Shadow

रत्न ज्योतिष

रत्नों के अंग्रेजी, संस्कृत नाम

रत्नों के अंग्रेजी, संस्कृत नाम

रत्न ज्योतिष
क्रम संख्या   रत्न संस्कृत नाम अंग्रेजी नाम 1. माणिक  पद्मराग ruby 2. मोती मुक्तक perl 3. मूंगा   विद्रुम प्रबाल korel 4. पन्ना   मरकत emerald 5. पुखराज  पुष्पराज topaz 6. हीरा  वज्रमणि diomond 7. नीलम   इन्द्रनील sapphire turguese 8. गोमेद   गोमेदक zircon 9. लहसुनिया वैदूर्य cat’s eye  
रत्न और ग्रह तथा धातु

रत्न और ग्रह तथा धातु

रत्न ज्योतिष
क्रम सं ग्रह धातु रत्न 1. सूर्य      स्वर्ण माणिक्य 2. चंद्रमा        चांदी मोती 3. मंगल        स्वर्ण मूंगा 4. बुध        स्वर्ण,कांसा पन्ना 5. ब्रहस्पति     चांदी पुखराज 6. शुक्र       चांदी हीरा 7. शनि    लोहा नीलम 8. राहु     पंचधातु गोमेदक 9. केतु       पंचधातु लहसुनिया
राशियाँ और उनसे सम्बंधित रत्न-उपरत्न

राशियाँ और उनसे सम्बंधित रत्न-उपरत्न

रत्न ज्योतिष
क्रम संख्या    राशि नाम सम्बंधित रत्न-उपरत्न 1. मेष                  मूंगा 2. वृष                  हीरा व पन्ना 3. मिथुन                पन्ना व मोती 4. कर्क                  मोती व नीलम 5. सिंह                  माणिक 6. कन्या                 पन्ना 7. तुला                  सफ़ेद पुखराज 8. वृश्चिक                मूंगा 9. धनु                   पीला पुखराज 10. मकर                  नीलम 11. कुंभ                   फिरोजा 12. मीन                   गोमेदक
अंग्रेजी जन्म-मास के आधार पर धारण करने योग्य रत्न

अंग्रेजी जन्म-मास के आधार पर धारण करने योग्य रत्न

रत्न ज्योतिष
    क्रम संख्या      मास का नाम धारक रत्न का नाम 1. जनवरी                  मूंगा 2. फरवरी                  स्फटिक 3. मार्च                    फिरोज़ा 4. अप्रैल                    हीरा 5. मई                      पन्ना 6. जून                     ओनिक्स 7. जुलाई                   माणिक्य 8. अगस्त                  गोमेदक 9. सितम्बर                 नीलम 10. अक्टूबर                  चंद्रकांत 11. नवम्बर                  पुखराज 12. दिसंबर                   लहसुनिया  
परस्पर मित्र व शत्रु रत्न

परस्पर मित्र व शत्रु रत्न

रत्न ज्योतिष
             क्रम संख्या            रत्न मित्र शत्रु समानदर्शी 1. हीरा पन्ना ,नीलम माणिक्य ,मोती मूंगा ,पुखराज 2. मोती माणिक्य ,पन्ना - हीरा ,मूंगा ,नीलम ,पुखराज 3. मूंगा माणिक्य ,मोती ,  पुखराज पन्ना हीरा , नीलम 4. पन्ना माणिक्य ,हीरा मोती मूंगा ,पुखराज 5. नीलम पन्ना ,हीरा माणिक्य ,मोती ,मूंगा नीलम ,पुखराज 6. माणिक्य मोती ,मूंगा ,पुखराज हीरा ,नीलम पन्ना 7. गोमेद पन्ना ,नीलम ,हीरा माणिक्य ,मोती मूंगा ,पुखराज 8. वैदूर्य पन्ना ,नीलम ,हीरा माणिक्य ,मोती मूंगा ,पुखराज
रत्नों के शुभ / अशुभ की परीक्षा

रत्नों के शुभ / अशुभ की परीक्षा

रत्न ज्योतिष
विधि – कौन सा रत्न धारण करना शुभकारक होगा या हानिकारक , इसके जानने के लिए निम्न विधि बहुत ही सरल है | नीचे एक चक्र बनाया गया है , जिसमे 81 कोष्ठ चक्र हैं , जिसके कोष्ठकों में भिन्न-भिन्न अंक लिखे हुए हैं | धारणीय रत्न को जानने के लिए अपने दाहिने हाथ की अंगुली को चक्र के किसी कोष्ठ में रखें | उस कोष्ठ में जो अंक लिखा हो उसमे 3 से भाग दें | यदि शेष 1 अंक बचे तो जो रत्न आप खरीदने के लिए तैयार हैं वह शुभ फल देने वाला है , 2 अंक शेष बचे तो वह रत्न मध्यम फल देने वाला है | इसके अतिरिक्त अन्य अंक शेष बचता है तो वह अशुभ फल देने वाला है | 60 6 59 1 52 73 4 79 30 43 31 57 29 7 71 58 20 81 2 61 18 44 51 28 3 36 53 66 21 56 5 27 45 54 16 72 50 42 17 22 55 8 15 35 46 32 9 48 14 41 26 47 11 64 70 63 23 37 10 4
किस ग्रह के लिए कौन सा रत्न धारण करना चाहिए |

किस ग्रह के लिए कौन सा रत्न धारण करना चाहिए |

रत्न ज्योतिष
यहाँ हम आपको बताएँगे कि किस ग्रह के लिए कौन सा रत्न धारण करना चाहिए | जिससे आप अपने लिए सही रत्न का चुनाव कर पायें | सूर्य = माणिक्य चन्द्र = मोती मंगल = मूंगा बुध = पन्ना शुक्र = हीरा शनि = नीलम राहु = गोमेद केतु = लहसुनिया ब्रहस्पति = पुखराज पृथ्वी = मैगनेट इस प्रकार हम रत्नों से अपने जीवन को उन्नत बना सकते हैं | किसी भी रत्न को धारण करने से पहले उसे गंगाजल से शुद्ध कर लेना चाहिए| उसके बाद धुपादी दिखाकर धारण करना चाहिए|
रत्न ज्योतिष

रत्न ज्योतिष

रत्न ज्योतिष
कहते हैं | रत्न जड़ित अंगूठी पहनने से रंक भी राजा हो जाते हैं | हममें से अधिकतर लोग यही समझते हैं कि जितना महंगा रत्न होगा, उतनी ही उन्नति हम करेंगे | या कुछ लोग मानते हैं कि यह तो एक मात्र आभूषण है जो पसंद हो पहन लो | ऐसी ही कई भ्रांतियां चारों तरफ रत्नों को लेकर फैली हुई हैं | परन्तु सच्चाई कुछ और ही है | न तो ऐसे ही किसी भी रत्न को पहनने से उन्नति होती है, और न ही ये मात्र सजने के लिए आभूषण ही हैं | रत्न तो वो ऊर्जा हैं जो यदि सही चुने जाएँ तो बहुत अच्छा वरना कुछ भी हो सकता है | इसलिए रत्नों का चयन बहुत सावधानी से करना चाहिए , किसी योग्य ज्योतिषी के द्वारा | अब आपके मन में ये प्रश्न आ रहा होगा कि रत्न आखिर काम कैसे करते हैं |  तो आइये जानें- वैसे तो हमारे सौरमंडल में बहुत सारे ग्रह हैं पर 10 ग्रह ऐसे हैं जो ज्योतिष विज्ञान के अनुसार हमारे पुरे जीवन का निर